Category Archives: ●पटना.

सेना में नौकरी दिलवाने वाला रैकेट पकड़ाया, पांच लाख तक में होती थी डील

बिहार में सेना में नौकरी दिलवाने वाला रैकेट सक्रिय था। इसमें कुछ सैन्यकर्मी भी शामिल थे। नौकरी के लिए पांच लाख तक में डील होती थी। पटना पुलिस ने इसका खुलासा किया है।
मोतिहारी: ब्यूरो प्रमुख देवेंद्र कुमार कुशवाहा की रिपोर्ट:-पटना बिहार में सेना में भर्ती के नाम पर बड़ा रैकेट चल रहा था। इसमें सेना के लोग भी शामिल थे। ये लोग सेना में बहाली कराने के नाम पर तीन से पांच लाख रुपये वसूलते थे। पुलिस के हत्थे चढ़े गिरोह के सरगना मुन्ना सिंह व उसके चार साथियों ने इसका खुलासा किया है। Continue reading →

Advertisements

ख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी निश्चय यात्रा के दौरान कहा कि सोशल मीडिया से सावधान रहने की जरूरत है। पता नहीं वो लोग क्या दिखा दें? क्या बता दें?

15_11_2016-nitish6

ख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी निश्चय यात्रा के दौरान कहा कि सोशल मीडिया से सावधान रहने की जरूरत है। पता नहीं वो लोग क्या दिखा दें? क्या बता दें?

पटना CN: हर घर बिजली लगातार’ निश्चय के उद्घाटन के मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि सोशल मीडिया पर इन दिनों पता नहीं क्या-क्या चलता रहता है। सतर्क रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों वे एक न्यूज चैनल देख रहे थे। सोशल मीडिया के एक पोस्ट का जिक्र था। उस पोस्ट में कहा गया था कि एक सेवा विमान से सेना के बहुत सारे जवान यात्रा कर रहे थे। यात्रा के दौरान जवानों ने खाना नहीं लिया। तभी विमान में बैठे एक व्यक्ति ने अपने खर्च पर सभी जवानों को खाना देने की बात कही। जबकि हकीकत यह है कि सेना के जवान सेवा विमान से नहीं निकलते हैैं।

एक साथ जब उनकी यात्रा होती है तो सेना के विमान का इस्तेमाल होता है या फिर ट्रेन में उनके लिए अलग से इंतजाम होता है। जिस व्यक्ति ने खाना दिए जाने की बात कही थी उससे जब चैनल के रिपोर्टर ने संपर्क किया तो उसने कहा कि मैैंने तो बस पोस्ट शेयर किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह भी जानिए कि यूरोपीय यूनियन से इंग्लैैंड के अलग होने की वजह भी सोशल मीडिया है।

खुद देखी शिकायत निवारण की प्रक्रिया:-मुख्यमंत्री ने कहा कि अपनी निश्चय यात्रा के दौरान वह लोक शिकायत निवारण केंद्रों का दौरा कर रहे हैैं। एक केंद्र पर उन्होंने खुद शिकायतों के निपटारे का काम देखा। एक मामला बिजली बिल अधिक आने का था। एक युवक ने शिकायत की थी कि उसे पच्चीस हजार रुपये का बिजली दिया गया है, जो सही नहीं है।
संबंधित इंजीनियर और युवक को बुलाया गया था। इंजीनियर पूरी जांच और रिपोर्ट के साथ पहुंचे थे। उन्होंने शिकायत सही होने की बात मानी। बताया कि बिल बारह हजार का होना चाहिए था। इस निर्णय से युवक भी संतुष्ट हो गया।

सेनारी नरसंहार के 15 दोषियों को फांसी या उम्रकैद? .फैसला आज

15_11_2016-senari_151116_01a

बिहार के चर्चित सेनारी नरसंहार मामले में आज जहानाबाद कोर्ट फैसला सुनाएगी। इस मामले में 15 को दोषी करार दिया गया है। फैसले को लेकर कोर्ट में सुबह से ही गहमा-गहमी है।

पटना [CN]:बिहार के उस गांव में अगली सुबह भी स्याह अंधेरा भरी थी। 18 मार्च 1999 की उस रात प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी (एमसीसी) के हथियारबंद दस्ते ने गांव को घेरकर जाजि विशेष के 34 लोगों को एक जगह इकट्ठा किया और एक-एक कर उनका लगा रेत दिया। आज इस नरसंहार के 15 दोषियों को कोर्ट सजा सुनाएगी।
सेनारी नरसंहार के मामले में जहानाबाद सिविल कोर्ट ने बीते 27 अक्टूबर को सुनवाई करते हुए 15 आरोपियों को दोषी करार दिया था। कोर्ट ने 23 को रिहा कर दिया था। दोषियों को जेल भेज दिया गया था। आज उनकी सजा के बिंदु पर सुनवाई हो रही है।

इस खौफनाक हादसे के एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया था कि हमलावरों ने उसे मरा समझकर गड्ढे में फेंक दिया था। वे एक-एक कर लोगों की गर्दन रेत कर गड्ढे में लाशों को फेंकते जा रहे थे।