Category Archives: ●अररिया.

​*अररिया:-शाहीद आलम के  संयोजक बनने पर बधाई *

*अररिया:-शाहीद आलम के  संयोजक बनने पर बधाई *

👈अररिया से चम्पारण न्यूज़ संवाददाता अल्लामा गजाली की रिपोर्ट👉राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के संयोजक बनने पर मो शाहीद आलम को संगठन के मोईन आलम ,मोजफ्फर अशरफी ,मगफुर,तबरेज़ व् सरफ़राज़ के अलावा आदि कई लोगों ने बधाई दी।

इससे पूर्व एक विशेष मुलाकात में संगठन के संयोजक मो शाहीद आलम ने कहा कि मैं पिछले दिनों चिरह पंचायत के मुखिया पद पर रहते हुए पंचायत को काफी विकसित किया।इतना ही नहीं मनरेगा कार्य में उत्कृष्ठ प्रदर्शन पर मुझे सरकार द्वारा सम्मानित भी किया गया। एक सवाल के जवाब पर इन्होंने कहा कि सेवा ही मेरा धर्म है ।इन्होंने ने कहा कि इसी तरह से इस संगठन को भी सुदृढ़ बनाउँगा।

 

अररिया जिले के भरगामा में भारतीय जन लेखक संघ का सम्मेलन आयोजित


🌐अररिया जिले के भरगामा में भारतीय जन लेखक संघ का सम्मेलन आयोजित


☇भारत,नेपाल व भूटान के कई नामचीन साहित्यकारों ने कि सिरकत

रानीगंज(अररिया) से वरिष्ठ पत्रकार अशोक कुमार आलोक कि विषेश रिपोर्ट –भारतीय जन लेखक संघ का प्रथम जिला सम्मेलन रेणु साहित्य मंच भरगामा जिला अररिया में किया गया ।कार्यक्रम में देश विदेश के कई नामचीन साहित्यकार पधारे थे। विचारगोठी का विषय साहित्य,समाज और हासिये के लोग निर्धारित था ।

कार्यक्रम का उद्घाटन संघ के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेन्द्र गुरगाई (नेपाल ), उपाध्यक्ष डॉ एच बी विश्वा ( भूटान ), भूतपूर्व विधायक पद्मपराग राय वेणु ,वरिष्ठ साहित्यकार अजय भारती अकेला ,वाई एन पी डिग्री कॉलेज रानीगंज के प्रिंसिपल सह अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्राप्त साहित्यकार डॉ अशोक कुमार आलोक, साहित्यकार महेंद्र नारायण पंकज आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया।डॉ विश्वा ने कहा कि शिक्षा में देवशक्ति है जो साहित्यिक नीतिनिर्धारण तथा जनता के बीच की कड़ी है ।

संघ के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष गुरगाई ने कहा कि नारी शक्ति सबसे महत्वपूर्ण है। क्योंकि माँ भी नारी है । नारी तथा पुरुष एक ही गाड़ी के दो पहिये है। डॉ विश्वा के इंग्लिश मीडियम में दिए गए भाषण का हिदी अनुवाद पूर्णिया कॉलेज के अंगरेजी विभाग के प्रोफेसर डॉ शंभू कुशाग्र ने सुनाया। बंगाल से आये सेराज खान ने कहा साहित्य जीवन की कसौटी है।

 नरपतगंज विधायक अनिल कुमार यादव ने कहा कि साहित्य हमारी धरोहर है। विख्यात शास्त्रीय संगीतज्ञ पंडित परिमल दास ने कहा कि साहित्यकार लेखन तथा संगीतकार संगीत से समाज में जाग्रति पैदा करते है।

बी एन मंडल विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो इन्द्रनारायण यादव ने कहा कि साहित्य समाज की धड़कन है। साहित्यकार पंकज ने कहा कि समाजवाद की स्थापना में साहित्य की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

 प्रो नवल किशोर सिंह ने कहा कि साहित्य सृजन साधना है। कार्यक्रम का मंच संचालन अन्तर्राष्टीय साहित्यिक मंच पर पुरस्कृत प्रिंसिपल डॉ अशोक कुमार आलोक ने किया ।