​*मधेपुरा:अखिल भारतीय संतमत-सत्संग का 106वां वार्षिक महाधिवेशन मधेपुरा जिले के चौसा में*

​*मधेपुरा:अखिल भारतीय संतमत-सत्संग का 106वां वार्षिक महाधिवेशन मधेपुरा जिले के चौसा में*

👉सत्संग के आयोजन की सारी तैयारी पूरी*


संजय कुमार सुमन”उप संपादक 

दैनिक खोज खबर”


मधेपुरा जिला अंतर्गत चौसा प्रखंड के अरजपुर पुर्वी पंचायत के भिट्ठा में आगामी 4,5एवं 6मार्च को होने वाले अखिल भारतीय संतमत सत्संग का 106वां वार्षिक महाधिवेशन की सारी तैयारी पुरी कर ली गई है। सत्संग को लेकर इलाके के तमाम श्रद्धालुओं में हर्ष व उत्साह चरम पर है।
आयोजन समिति के व्यवस्थापक व स्थानीय संत स्वामी सहदेव दास जी महाराज कहते हैं कि “बींसवीं सदी के महान संत सदगुरु महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज का कथन है कि जब तक किसी देश का आध्यात्मिक स्तर उत्तम और ऊँचा नहीं होगा तब तक उस देश में सदाचारिता ऊँची और उत्तम नहीं होगी। जब तक सदाचारिता ऐसी नहीं रहेगी, तब तक समाजिक नीति अच्छी नहीं होगी। जब तक समाजिक नीति अच्छी नहीं होगी, तब तक *राजनीति* अच्छी और शांतिदायक नहीं होगी।

👉संत-महात्माओं का होगा आगमन*

स्वामी सहदेव दास जी महाराज ने बताया कि संतमत आश्रम  मनियारपुर (बौंसी, बांका) के वर्तमान *प्रधान आचार्य पूज्यपाद स्वामी चतुरानन्द जी महाराज* के सानिध्य में उक्त तिथि को स्वामी वेदानंद जी महाराज, पूज्य स्वामी योगानंद जी महाराज, पूज्य स्वामी रामबालक जी महाराज, पूज्य स्वामी रामलाल ब्रह्मचारी जी महाराज, पूज्य स्वामी श्याम सुन्दर जी महाराज, पूज्य स्वामी गुरु प्रसाद जी महाराज, पूज्य स्वामी धीरेन्द्र ब्रह्मचारी जी महाराज, पूज्य स्वामी भगतानन्द जी महाराज, स्वामी धैर्यानन्द जी महाराज के साथ-साथ देश-विदेश के वरिष्ठ महात्माओं एवं विद्वानों के प्रवचन होंगे।

👉आकर्षण पंडाल व भंडारा का व्यवस्था*
मुख्य कार्यकर्ता पूर्व मुखिया मनोज प्रसाद,अमोद कुमार,जयकुमार मंडल, विष्णुदेव यादव, जगदंबी मंडल, मंटू यादव, मुखिया रिंकू देवी आदि ने बताया कि पंडाल एवं साउंड व्यवस्था की सारी जिम्मेदारी प्रखंड के कलासन स्थित *शंभू टेन्ट हाउस व साउंड सर्विस* को दी गई है तथा भंडारा के लिये भोजन बनाने का जिम्मा नेपाल तथा सकरहर के हलवाइयों को सौंपी गयी है।
👉कार्यक्रम स्थल तक पहुँचने का मार्ग*
दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश,पटना आदि की ओर से आनेवाले सत्संगप्रेमी बरौनी जंक्शन होते हुए नवगछिया स्टेशन पहुँचे। तथा सहरसा,सुपौल, मधेपुरा से आनेवाले भक्तगण बस द्वारा चौसा होते हुए अरजपुर पहुँचे एवं नेपाल, अररिया, किशनगंज, पूर्णियां से आनेवाले भक्तगण बस द्वारा रूपौली होते हुए अरजपुर पहुँचे।अरजपुर गांधी उच्च विद्यालय से सत्संग-स्थल करीब दो किलोमीटर की दूरी पर है। वहीं भागलपुर से 35किलोमीटर तथा नवगछिया जीरोमाइल से 15 किलोमीटर का सफर बस या टैंम्पू से तय कर भटगामा पहुँचा जा सकता है। वहां से करीब दो किलोमीटर की दूरी ढोलबज्जा होते हुए भिट्ठा सत्संग स्थल पर आप पहुँच सकते हैं।

%d bloggers like this: