सारण:शिक्षा देश की रीढ़ होती है,इसके बिना जीवन अधूरा है -डॉ जयकान्त

सारण:शिक्षा देश की रीढ़ होती है,इसके बिना जीवन अधूरा है -डॉ जयकान्त

————

✍मुरारी बाबा 

भेल्दी(सारण)

देश को बचाना है तो पहले परिवार को बचाना जरुरी है।सभी को शिक्षा पर जोर देनी चाहिए।

शिक्षा के साथ साथ बच्चो को नैतिकता व सम्मान करने का पाठ पढना जरुरी है।बच्चे हमारे देश के भविष्य होते है।उनके बेहतरी के लिए हमेशा उनके साथ खड़ा रहना चाहिए।बच्चे जो करना चाहे उन्हें वही करने दे।ताकि उनके हुनर में कोई कमी न आए।अपना भविष्य खुद चुने।उक्त बातें बाबा साहेब भीम राव आंबेडकर यूनीवर्सिटी के भोजपुरी बिभाग के उपाध्यक्ष डॉ जय कान्त सिंह जय ने भेल्दी स्तिथ रेडिएंट पब्लिक स्कूल के 8 बे वार्षिकउत्सव के मौके पर कही।साथ ही उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से बच्चो का मनोबल बढ़ता है।ऐसे कार्यक्रम होते रहने चाहिए।

वही सारण के पूर्व जिप उपाध्यक्ष शिक्षाविद बृजकिशोर सिंह ने कहा कि गुरु केवल सम्मान का भूखा होता है।समाज भर्त्सना की शक्ति खो चुका है।अगर समाज में भत्सना होने लगे तो हम कर्त्तव्य से आगे बढ़ सकते है।

इसके पूर्व स्कूल के छोटे छोटे बच्चो ने भक्ति व देश भक्ति गानों पे डांस कर लोगो का मन मोह लिया।

कार्यक्रम के सुरुआत में रेडियंट पब्लिक स्कूल के सचिव रंजीत कुमार सांडिल्य ने मुख्य अतिथि व सभी सम्मानित शिक्षकों व बुद्धिजीवी को शॉल भेट कर सम्मानित किया।

सभा को संबोधित करने वालो में पूर्व प्राचार्य ब्रम्हानन्द पाण्डेय अम्बिका राय पत्रकार राजेश उपाध्याय मंटू सिंह समेत कई बुद्धिजीवियो ने अपने अपने विचार रखे।

%d bloggers like this: