​बीकानेर शहर में बिजली का निजिकरण नहीं

बीकानेर शहर में बिजली का निजिकरण नहीं

किसी भी कर्मचारी को नहीं निकाला जायेगा,प्रतिनियुक्ति पर जा सकेंगे कर्मचारी

आजाद नेब

बीकानेर 25 फरवरी। जोधपुर वितरण निगम की प्रबन्ध निदेशक आरती डोगरा ने कहा कि बीकानेर शहर में बिजली वितरण की फ्रेचाईजी सी.इ.एस.इ. कम्पनी को दी गई है। यह कम्पनी बीकानेर शहर मंे विद्युत वितरण,विद्युत कनेक्शन,रख-रखाव,उपभोक्ताओं को बेहत्तर सेवाएं प्रदान करने,उपभोक्ताआंे की समस्याओं का तुरन्त निवारण करने का काम करंेगी। उन्होंने कहा कि इस कम्पनी के साथ करार किया है कि प्रति वर्ष विद्युत सुधार कार्यक्रम में खर्चा करेगी।  
डोगरा शनिवार को मुख्य अभियन्ता जोधपुर डिस्कोम कार्यालय के सभागार में जनप्रतिनिधियों के साथ बीकानेर शहर में विद्युत वितरण निगम में प्रस्तावित विद्युत वितरण फे्रन्चाईजी माॅडल के संबंध में फैली भ्रांतियों व शंकाओं के निवारण के बारे जानकारी दे रही थीं। उन्होंने कहा कि इस कम्पनी द्वारा कार्य करने का मतलब यह नहीं है कि बीकानेर में बिजली का नीजिकरण हो रहा है। उन्होंने कहा कि जोधपुर विद्युत वितरण निगम अपने विद्युत संबंधी विभिन्न कार्य जैस उपभोक्ताओं को बिजली पहुंचाना,उनसे भुगतान प्राप्त करना,नवीन विद्युत कनेक्शन प्रदान करना,उपभोक्ताओं की समस्याआंे  निस्तारण करना,लाइनों का रख-रखाव करना आदि कार्य निगम कर्मचारी तथा ठेकेदारों से करवा रही है। अब इस डीएफ माॅडल के लागू होने पर उक्त सभी कार्य डीएफ आॅपरेटर कम्पनी अधिकृत क्षेत्र (बीकानेर शहर ) में ही विद्युत आपूर्ति संबंधित सभी कार्य कर     सकेगी,जबकि विद्युत निगम की सम्पतियों का स्वामित्व जोधपुर डिस्कोम के पास ही रहेगा। 
उन्होंने कहा कि इस फ्रेचाईजी को विद्युत दरे स्वतःनिर्धारण करने का कोई अधिकार नहीं होगा,क्योंकि विद्युत दरे विद्युत नियामक आयोग ही निर्धारित करता है और विद्युत दरे वितरण निगम के अन्य उपभोक्ताओं के समान ही रहती है। उन्होंने कहा कि इस  माॅडल के लागू होने से उपभोक्ताओं और राज्य सरकार को किसी प्रकार की हानि नहीं होगी। 
प्रबंध निदेशक ने कहा कि बीकानेर शहर मंे इस कम्पनी को लेकर भ्रांति है कि विद्युत का नीजिकरण किया जा रहा है। यह गलत है। उन्होंने कहा कि कोटा में गत 10 माह से फ्रेचाईजी बहुत ही अच्छा कार्य कर रही है। उपभोक्ता द्वारा विद्युत कनेक्शन के लिए आवेदन करने पर 80 प्रतिशत आवेदकों को मात्र एक दिन में कनेक्शन दिया जा  रहा है। उन्होंने बताया कि विद्युत फाल्ट दूर करने मंे मात्र एक से डेढ घन्टे का समय लगता है। उन्होंने बताया कोलकता में पिछले 100 साल से यह कम्पनी  काम कर रही है और वहां के विद्युत उपभोक्ता इसकी सेवाओं से खुश है। उन्होंने बताया कि आगरा व नागपुर में भी डिस्ट्रीब्यूशन फे्रन्चाइजी  कार्य कर रही है। उन्हांेने कहा कि देश के बड़े शहरों में जैसे गया,मुज्जफरपुर में यह फ्रेचाईजी विद्युत के क्षेत्र में काम कर रही है। 
उन्होंने कहा कि विद्युत कार्मिकांे की भ्रांतियों को  भी दूर किया गया है। किसी भी कर्मचारी/अधिकारी को सेवा से नहीं निकाला जायेगा। कर्मचारी व अधिकारी अगर सीमित समय के लिए  प्रतिनियुक्ति पर इस कम्पनी में जाना चाहता है,तो वह जा सकेगा। इनका लीयन जोधपुर डिस्कोम में बना रहेगा तथा इनकी वरियता वहीं रहेगी। उन्हांेने कहा कि फ्रेचाईजी मंे जाने वाले कार्मिकों के सेवा नियम आदि डिस्काॅम के ही लागू रहेंगे। अगर वह विभाग में वापिस आना चाहेगा,तो उसे लिया जायेगा। उन्होंने कर्मचारियों की शंकाओं को दूर करते हुए कहा कि प्रतिनियुक्त पर उक्त फ्रेचाईजी मंे जाने वाले कर्मचारियों/ अधिकारियों की सेवानिवृति पर पेंशन व अन्य देय लाभ विद्युत वितरण निगम द्वारा ही दिए जायेंगे। 
इस अवसर पर जोधपुर वितरण निगम के तकनीकी निदेशक नवीन अरोड़ा ने फ्रेचाईजी के साथ हुए करार के बारे में पावर प्रजन्टेशन के माध्यम से वितस्तार से जानकारी दी। बैठक में संसदीय सचिव डाॅ.विश्वनाथ मेघवाल,विधायक डाॅ.गोपाल कृष्ण जोशी,जिला कलक्टर वेदप्रकाश,नगर विकास न्यास के अध्यक्ष महावीर रांका,उप महापौर अशोक आचार्य,विमला मेघवाल,डाॅ.सत्य प्रकाश आचार्य,सहीराम दुसाद,मोहन सुराणा,सलीम भाटी,सुरेन्द्र सिंह राठौड़,गुलाब गहलोत,युधिष्ठर सिंह भाटी,ताराचंद सारस्वत,बीछवाल उद्योग संघ के अध्यक्ष सुन्दर जोशी,विजय मोहन जोशी,डिस्काॅम (जोधपुर) के सचिव आर.के.सिंह ,मुख्य अभियन्ता विद्युत बीकानेर प्रेमजीत धोबी तथा अधीक्षण अभियन्ता भूपेन्द्र भारद्वाज सहित अनेक पार्षद व जन प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

Advertisements
%d bloggers like this: