​*जनवितरण प्रणाली की दुकान अधिकारियों और जनवितरण बिक्रेता का हुआ गुलाम*

जनवितरण प्रणाली की दुकान अधिकारियों और जनवितरण बिक्रेता का हुआ गुलाम

चंपारण न्यूज़ के लिये बेगूसराय से  अजित कुमार राय की रिपोर्ट:- बेगूसराय जिला के गढ़पुरा प्रखंड क्षेत्र में जनवितरण प्रणाली की दुकान अधिकारियों और जनवितरण बिक्रेता का हुआ गुलाम। महीने के तीसों दिन दुकान खोलने के बजाय यहां अधिक से अधिक महीने में  तीन से चार दिन ही ये दुकान खुलते हैं। इस पुरे दिन लोगो को लाईन में खड़ा होकर बहुमूल्य समय बर्बाद करके अपना राशन किराशन उठाने परते हैं।

इस दिन अगर आप अपना राशन किराशन नही उठाया तो आपका राशन किराशन ये दुकानदार डकार जायेंगे लेकिन आप कह भी किसे सकते हैं कहने से कोई फायदा नही होने बाला है क्योंकि ये नीचे से ऊपर तक की सांठ गांठ रहती जिसके कारण कुछ डीलर तो महीनों का राशन बेचकर मालामाल हो रहा है और गरीब परेशान हो रहा है जिसका जीता जागता उदाहरण सोनमा पंचायत में देखने को मिला है।

यहां ग्रामीणों ने पंचायत के उप मुखिया हरेराम पाल पर डीलर से तीन हजार रुपया, दो दो बोरा चाबल और गेहूं बतौर घुस यह कहकर लिया गया कि एक माह तुमको राशन का वितरण नही करना है। आखिर सवाल यह है कि ये अधिकारी सिर्फ बेतन लेने के लिए ही बहाल हुए हैं या गरीबो की सेवा के लिए यह लोगों के समझ से परे है क्योंकि ऐसे अधिकारी अपने को अधिकारी समझते हैं क्योंकि आज हमलोगों में कुछ ना कुछ कमजोरी है जिसका ये बखूबी फायदा उठा रहे हैं।

 

Advertisements
%d bloggers like this: